देवास.खातेगांव:हिंदी को राष्ट्रभाषा बनाने के लिए सौंपा राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन

प्रदीप साहू

खातेगांव l हिंदू राष्ट्र परिषद इकाई खातेगांव हिंदू राष्ट्र परिषद मध्य प्रदेश प्रांत के प्रांत संगठन मंत्री सुनील अग्रवाल के नेतृत्व में हिंदी भाषा को राष्ट्रभाषा का दर्जा दिए जाने की मांग को लेकर खातेगांव एसडीएम त्रिलोचन गौड को महामहिम राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन सौंपा । इस अवसर पर. ज्ञापन का वाचन दादाजी सेवा भक्त मंडल के प्रदेश मीडिया प्रभारी प्रदीप साहू ने किया ज्ञापन में हिंदी भाषा भारत गणराज्य की मुख्य भाषा है जो विभिन्न अहिंदी भाषा राज्यों , विभिन्न मतों – पंथो तथा विभिन्न भाषा के लोगो में संपर्क भाषा के रूप में भी अपनाई जा रही हैं । वर्तमान में हिंदी अखंड भारत की सूत्रधार बन गई है । हिंदी भाषा अपने शक्तिशाली अस्तित्व को आज दुनिया भर में प्रमाणित कर रही हैं । अब भी जो लोग भाषाई विविधता और अनपढ़ता के कारण एक दूसरे से जुड़ नहीं पाते हैं , एक राज्य का व्यक्ति अन्य राज्य में कार्य नहीं कर पाता है , व्यापार नहीं कर पाता है उनके लिए हिंदी भाषा वरदान बन गई है । विद्यार्थी- जीवन में विभिन्न भाषाओं को सीखना – सिखाना पड़ता है । हिंदी भाषा ज्ञान के अभाव में कुछेक विद्यार्थी मुख्य तथ्यों पर ध्यान केंद्रित नही कर पाते हैं , जिससे विद्यार्थी अपनी प्रतिभा का सही उपयोग नहीं कर पाते हैं तो इसका मुख्य कारण वर्तमान में विभिन्न राज्यो में केवल अंग्रेजी भाषा को संवैधानिक आड़ में मोहवश जस्बन लाद दिया जाना है । मूलतः अंग्रेजी भाषा मे यह क्षमता ही नहीं है कि वह भारतीय परिवेश में भारतीय शिक्षण – पद्धति एवं शिक्षा के मौलिक उद्देश्यों को व्यवस्थित और दृढ़ता प्रदान कर सके । तथा भारत की मूल शिक्षाएं संस्कृत – हिंदी में ही है । प्राथमिक स्तर से उच्च शिक्षा तक अंगेजी भाषा के प्रयोग के कारण , तथा मूल भारतीय भाषाओं के ज्ञान के अभाव के कारण भारत की महान विधाओं – शिक्षाओं को विश्व स्तर पर जन – कल्याण में प्रयोग नही हो पाता है । भारत की सभी भाषाओं में केवल हिंदी ही सर्वसमक्ष और सबल क्षमता है जिसका मुख्य कारण यह कि हिंदी पूर्णतः वैज्ञानिक सम्मत भाषा है । हिंदी भाषा न केवल भारत को एक राष्ट्रीय – सूत्र में बांध सकती है बल्कि राष्ट्रोत्थान का आधार- बिंदु हो सकती है । हिंदी को राष्ट्र भाषा बनाने की मांग स्वतन्त्रता के बाद से सदैव होती रही है जिसकी पूर्ववर्ती सरकारों ने सदैव उपेक्षा ही की है । अंततः महामहिम आपसे इस बार विनम्रतापूर्वक साग्रह निवेदन है कि भारत में करोड़ो भारतीयों के कल्याण के लिए और भारत गणराज्य के पुनरूत्थान के लिए हिंदी – भाषा को भारत की राष्ट्र- भाषा बनाने की महती कृपा करे । हिंदू राष्ट्र परिषद , भारतवर्ष आपके इस महान कार्य के लिए सदैव ऋणी रहेगी ।. दादा जी सेवा भक्त मंडल के प्रदेश संयोजक रवि शर्मा, केवलराम मालवीय,उमाशंकर यादव , पूनम बिश्नोई, कैलाश जानी पूर्व सरपंच मिर्जापुर, नंदकिशोर वर्मा, संदीप बागवान, सुनील अग्रवाल, प्रदीप साहू सहित बड़ी संख्या मे गणमान्यजन उपस्थित थे । सभी ने एक स्वर में कहा हिंदी को राष्ट्रभाषा का दर्जा मिले ।


error: Content is protected !!