कोच का काम सिर्फ बेहतर प्रदर्शन पर ताली बजाना या शाबासी देना नहीं

न्यूजीलैंड दौरे पर गई पाकिस्तान टीम दो टेस्ट मैचों की सीरीज का पहला टेस्ट हार चुकी है। इस हार के बाद बाद पाकिस्तान के पूर्व कप्तान आमिर सोहेल ने कोच मिस्बाह उल हक और वकार यूनिस पर तंज कसा। सोहेल ने कहा- कोच का काम सिर्फ बेहतर प्रदर्शन पर ताली बजाना या शाबासी देना नहीं है। बल्कि उनकी कमियां दूर करना है। दूसरा टेस्ट 3 जनवरी से खेला जाएगा।सोहेल ने अपने ब्लॉग पर लिखा – नए खिलाड़ियों को कुछ मैच में खराब प्रदर्शन के बाद हटा दिया जाता है। यह नहीं बताया जाता कि उनमें क्या कमी है। उसे कैसे सुधारा जा सकता है। हाल ही में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कहने वाले मोहम्मद आमिर को भी टीम से ड्रॉप किए जाने के कारणों के बारे में नहीं बताया गया। उसकी कमियों को दूर करने के लिए क्या किया गया? ताली और शाबासी देने के लिए कोच की जरूरत नहीं है। इसके लिए तो कुछ आदमियों को रख लेना चाहिए। ये प्लेयर्स के अच्छा खेलने पर ताली बजाते रहेंगे। इससे बोर्ड का पैसा भी बचेगा।


error: Content is protected !!